टीके उपलब्‍ध न होने पर क्‍या हमें खुद को फांसी पर लटका लेना चाहिए? : केंद्रीय मंत्री

टीके उपलब्‍ध न होने पर क्‍या हमें खुद को फांसी पर लटका लेना चाहिए? : केंद्रीय मंत्री

बेंगलुरू: 

केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा (DV Sadananda Gowda) ने जानना चाहा है कि क्या सरकार में बैठे लोगों को टीके के उत्पादन में नाकामी की वजह से खुद को फांसी पर लटका लेना चाहिए? गौड़ा ने गुरुवार को यहां पत्रकारों से कहा, ‘अदालत ने अच्छी मंशा से कहा है कि देश में सबको टीका लगवाना चाहिए. मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि अगर अदालत कल कहती है कि आपको इतने (टीके) देने हैं और यह अगर न बन पाए, तो क्या हमें खुद को फांसी पर लटका लेना चाहिए?’ टीके की किल्लत (Non-availability of vaccine) के सवालों पर केंद्रीय मंत्री ने सरकार की कार्रवाई योजना पर जोर दिया और कहा कि इसके निर्णय किसी भी राजनीतिक लाभ या किसी अन्य कारण से निर्देशित नहीं होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat